Breaking News

शहीदे आजम भगत सिंह को आतंकी शब्द से एक किताब में छापने के विरोध

पानीपत, शहीद भगत सिंह ब्रिगेड पानीपत की तरफ से आज लघु सचिवालय के सामने शहीदे आजम भगत सिंह को आतंकी शब्द से एक किताब में छापने के विरोध में प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शनकारी मांग कर रहे थे कि किताब से यह शब्द हटाया जाए। यहां पर बोलते हुए नवीन नैन भालसी ने कहा कि अंग्रेजों ने जब भारत को गुलामी की जंजीर से जकड़ लिया था उस समय भारतवासियों पर भयंकर अत्याचार हो रहे थे। देश वासियों को गुलाम बनाकर रखा हुआ था। बहु-बेटियों की इज़्जत लूटी जा रही थी और भारत की संपत्ति लूटकर अंग्रेज अपने देश इंग्लैंड में ले जा रहे थे। भारतीय संस्कृति को खत्म कर रहे थे। उस समय कुछ साहसी वीर बहादुर जवानों ने उनके खिलाफ आवाज उठाई उसमें शहीद भगत सिंह, राजगुरु व सुखदेव भी थे। जिन्होंने भारत को अंग्रेजों को गुलामी से दूर करने के लिए अपनी जवानी में प्राणों का बलिदान दे दिया, लेकिन हमारा दुर्भाग्य है कि आज तक उन वीरों को उचित सम्मान नहीं दे पाये। यहां तक कि शहीदी का दर्जा तक नहीं दे पाये और ऊपर से सरकारी साहित्य में उन्हें आंतकी बताया जा रहा है। श्री भालसी ने कहा कि भारत एक ऐसा देश है जहां देश के लिए अपने प्राण देने वाले क्रांतिकारियों को आंतकी कहा जाता है और देश के सैनिकों की तथा नागरिकों के प्राण लेने वालों के जनाजे में सम्मलित होकर उन्हें शहीद का दर्जा दिया जाता है। स्वतंत्रता सेनानी शहीद भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरु को भारत सरकार ने अभी तक शहीद का दर्जा नहीं दिया है एक आरटीआई में इस बात का खुलासा हुआ है। यह आरटीआई इंडियन कॉउंसिल ऑफ हिस्टोरिकल रिसर्च में दाखिल की गई थी। आरटीआई से यहां बात सामने आई है कि आईसीएचआर की और से नवम्बर में रिलीज की गयी किताब में शहीद भगत सिंह,सुखदेव व राजगुरु को आंतकी करार दिया गया है। जिसकी कड़ी निंदा करते हुए शहीद भगत सिंह ब्रिगेड़ द्वारा भारत के अलग-अलग जगह विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। आज यहां पर शहीद भगत सिंह ब्रिगेड़ के जिला प्रधान अंकित तेहरी व जिला उपप्रधान होशियार सिंह बावा ने संभाली है। दोनों के नेतृत्व में लघु सचिवालय में ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं द्वारा विरोध प्रदर्शन किया गया तथा भारत सरकार से मांग की गई कि शहीद भगत सिंह राजगुरु व सुखदेव को वैधानिक रूप से शहीदों का दर्जा दिया जाए। इसके साथ-साथ ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं ने शपथ ली उनका विरोध प्रदर्शन सरकार के खिलाफ तब तक चलता रहेगा जब तक वह अपने शहीदों को उनका हक व सम्मान नहीं दिलवा देते। इस अवसर पर हरियाणा नोर्थ जोन प्रभारी नवीन नैन, सन्नी विर्क युवा प्रभारी, अजय सिंह खर्ब,होशियार बावा, पाले राम खर्ब,प्रवीण वर्मा, मानव पाहवा, अमित जांगड़ा, कुनाल कपूर,हर्षित ग्रोवर, अंशुल, विजय व विकास अरोड़ा आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

यूपी सरकार का दावा है कि हॉटस्पॉट की रणनीति है कारगर

लखनऊ।  कोरोना पर काबू के प्रयासों में यदि राजस्थान का भीलवाड़ा मॉडल चर्चा में है ...

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 22 हुई

देहरादून। उत्तराखंड में शनिवार को कोरोना संक्रमण के छह नए मामले सामने आए हैं। जिसमें पांच ...